Happy Navratri Attitude Love Sad Good Morning Good Night

Home Inspirational Shayari 2 Line With Image in Hindi

Inspirational Shayari 2 Line With Image in Hindi

उदासियों की वजहें तो बहुत है ज़िंदगी में
उदासियों की वजहें तो बहुत है ज़िंदगी में,
बेवजह खुश रहने का मजा ही कुछ और है।



सफ़र में मुश्किलें आयें तो जुर्रत और बढ़ती है
सफ़र में मुश्किलें आयें तो जुर्रत और बढ़ती है,
कोई जब रास्ता रोके तो हिम्मत और बढ़ती है।



मेरे हाथों की लकीरों के इज़ाफ़े है गवाह
मेरे हाथों की लकीरों के इज़ाफ़े है गवाह,
मैंने पत्थर की तरह खुद को तराशा है बहुत।



यह भी देखिए:
साहिल से तूफ़ाँ का तमाशा देखने वाले
साहिल से तूफ़ाँ का तमाशा देखने वाले,
साहिल से अंदाज़ा-ए-तूफ़ाँ नहीं होता।



जंग में कागज़ी अफ़रात से क्या होता है
जंग में कागज़ी अफ़रात से क्या होता है,
हिम्मतें लड़ती है, तादाद से क्या होता है।



वही सफल होता है जिसका काम उसे निरंतर आनंद देता है
वही सफल होता है,
जिसका काम उसे निरंतर आनंद देता है।



फासला नजरों का धोखा भी तो हो सकता है
फासला नजरों का धोखा भी तो हो सकता है,
कोई मिले या ना मिले हाथ बढ़ा कर देखो।



यह भी देखिए:
उठो तो ऐसे उठो फक्र हो बुलंदी को भी
उठो तो ऐसे उठो फक्र हो बुलंदी को भी,
झुको तो ऐसे झुको बंदगी भी नाज़ करे।



ज़िन्दगी की खरोचों से न घबराइये जनाब
ज़िन्दगी की खरोचों से न घबराइये जनाब,
तराश रही है खुद ज़िन्दगी निखर जाने को।



मंजिलें मिले न मिले ये तो मुकद्दर की बात है
मंजिलें मिले न मिले, ये तो मुकद्दर की बात है,
हम कोशिश ही न करे ये तो गलत बात है।



अगर पाना है मंज़िल तो अपना रहनुमा खुद बनो
अगर पाना है मंज़िल तो अपना रहनुमा खुद बनो,
वो अक्सर भटक जाते है जिन्हें सहारा मिल जाता है।



जब इरादा बना लिया ऊंची उड़ान का
जब इरादा बना लिया ऊंची उड़ान का,
फिर देखना फिजूल है कद आसमान का।



कड़ी धूप में चलता हूँ इस यकीन के साथ
कड़ी धूप में चलता हूँ इस यकीन के साथ,
मैं जलूँगा तो मेरे घर में उजाला होगा।



हीरे को परखना है तो अँधेरे का इंतजार करो
हीरे को परखना है तो अँधेरे का इंतजार करो,
धूप में तो काँच के टुकड़े भी चमकने लगते है।



समुंदर में उतर लेकिन उभरने की भी सोच
समुंदर में उतर लेकिन उभरने की भी सोच,
डूबने से पहले, गहराई का अंदाज़ा लगा।



कहती है ये दुनिया बस अब हार मान जा
कहती है ये दुनिया बस अब हार मान जा,
उम्मीद पुकारती है बस एक बार और सही।



मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर
मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर,
कर हौसला खुली फिजाओं में उड़ान का।



धूप बहुत काम आई कामयाबी के सफर में
धूप बहुत काम आई कामयाबी के सफर में,
छाँव में अगर होते, तो सो गए होते।



अपने हौसले बुलंद कर मंज़िल तेरे बहुत करीब है
अपने हौसले बुलंद कर, मंज़िल तेरे बहुत करीब है,
बस आगे बढ़ता जा, यह मंज़िल ही तेरा नसीब है।



ज़िंदा रहना है तो हालात से डरना कैसा
ज़िंदा रहना है तो हालात से डरना कैसा,
जंग लाज़िम हो तो लश्कर नहीं देखे जाते।



चलो चाँद का किरदार अपना लें दोस्तों
चलो चाँद का किरदार अपना लें दोस्तों,
दाग अपने पास रखें और रोशनी बाँट दे।



इन्हीं जर्रों से कल होंगे नए कुछ कारवां पैदा
इन्हीं जर्रों से कल होंगे नए कुछ कारवां पैदा,
जो जर्रे आज उड़ते है गुबार-ए-कारवां होकर।



हर मील के पत्थर पर लिख दो यह इबारत
हर मील के पत्थर पर लिख दो यह इबारत,
मंज़िल नहीं मिलती नाकाम इरादों से।



हवाओं को पता था मैं जरा मजबूत टहनी हूँ
हवाओं को पता था मैं जरा मजबूत टहनी हूँ,
यही सच आँधियों ने अब हवाओं को बताया है।



पंखों को खोल कि ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है
पंखों को खोल कि ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है,
यूँ जमीन पर बैठकर आसमान क्या देखता है।



हजारों उलझनें राहों में और कोशिशें बेहिसाब
हजारों उलझनें राहों में और कोशिशें बेहिसाब,
इसी का नाम है ज़िन्दगी चलते रहिये जनाब।



ज़िन्दगी ने सबकुछ लेकर एक यही बात सिखाई है
ज़िन्दगी ने सबकुछ लेकर एक यही बात सिखाई है,
खाली जेबों में अक्सर हौसले खनकते है।



लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है
लकीरें अपने हाथों की बनाना हमको आता है,
वो कोई और होंगे अपनी किस्मत पे जो रोते है।



सोचने वालों की दुनिया दुनिया वालों की सोच से
सोचने वालों की दुनिया,
दुनिया वालों की सोच से अलग होती है।



खुदा तौफीक देता है उन्हें जो यह समझते है
खुदा तौफीक देता है उन्हें जो यह समझते है,
कि खुद अपने ही हाथों से बना करती है तकदीरें।



कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन
कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन,
फिर इसके बाद थोड़ा सा मुक़द्दर तलाश कर।



अपने हाथों की लकीरों को क्या देखते हो
अपने हाथों की लकीरों को क्या देखते हो?
किस्मत तो उनकी भी होती है, जिनके हाथ नहीं होते।



मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी
मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी,
वरना आँसुओं को तो आँखें भी पनाह नहीं देती।



मंज़िलों के ग़म में रोने से मंज़िलें नहीं मिलती
मंज़िलों के ग़म में रोने से मंज़िलें नहीं मिलती,
हौंसले भी टूट जाते है अक्सर उदास रहने से।



ज़िन्दगी जब ज़ख्म पर दे ज़ख्म तो हँसकर हमें
ज़िन्दगी जब ज़ख्म पर दे ज़ख्म, तो हँसकर हमें,
आजमाइश की हदों को आजमाना चाहिए।



खुद की कमजोरी पर नही काबिलियत की ओर ध्यान दो
खुद की कमजोरी पर नही,
काबिलियत की ओर ध्यान दो।



चरागों तक को जहाँ मय्यसर नहीं रौशनी
चरागों तक को जहाँ मय्यसर नहीं रौशनी,
लौ उम्मीद की हमने वहाँ भी जलाये रक्खी।



वो लड़ेंगे क्या कि जो खुद पर फ़िदा है
वो लड़ेंगे क्या कि जो खुद पर फ़िदा है,
हम लड़ेंगे, हम ख़ुदाओं से लड़े है।



अपने हौसलों पर जो ऐतबार करते है उन्हें
अपने हौसलों पर जो ऐतबार करते है उन्हें,
मंज़िलें खुद पते बताती है रास्ते इंतज़ार करते है।



सोचने से कहाँ मिलते है तमन्नाओं के शहर
सोचने से कहाँ मिलते है तमन्नाओं के शहर,
चलना भी जरुरी है मंज़िल को पाने के लिए।



सफल होकर हमें दुनिया जानती है
सफल होकर हमें दुनिया जानती है,
और असफल होकर हम दुनिया को जान जाते है।



कहने को लफ्ज दो है उम्मीद और हरसत
कहने को लफ्ज दो है उम्मीद और हरसत,
लेकिन निहां इसी में दुनिया की दास्तां है।



मैं अकेला ही चला था मंज़िल की ओर मगर
मैं अकेला ही चला था मंज़िल की ओर मगर,
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया।



न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा
न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा है, हमीं से निकलेगा।



हम भी दरिया है हमें अपना हुनर मालूम है
हम भी दरिया है हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ़ भी चल पड़ेगे रास्ता हो जाएगा।



अभी मुठ्ठी नहीं खोली है मैंने आसमां सुन ले
अभी मुठ्ठी नहीं खोली है मैंने आसमां सुन ले,
तेरा बस वक़्त आया है मेरा तो दौर आएगा।



सोचने से कहां मिलते है तमन्नाओं के शहर
सोचने से कहां मिलते है तमन्नाओं के शहर,
चलना भी जरूरी है मंजिल पाने के लिए।



होके मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये
होके मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये,
जिन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये।