Happy Navratri Attitude Love Sad Good Morning Good Night

Home Dard Shayari With Image in Hindi

Dard Shayari With Image in Hindi

वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे
वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,
हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे,
हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि,
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे।



दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता
दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते है इस तरह प्यार नहीं होता।



मोहब्बत का मेरे सफ़र आखिरी है
मोहब्बत का मेरे सफ़र आखिरी है,
ये कागज़ कलम ये गज़ल आखिरी है,
मैं फिर न मिलूँगा कहीं ढूढ लेना,
तेरे दर्द का अब ये असर आखिरी है।



यह भी देखिए:
दर्द से दोस्ती हो गई यारों जिंदगी बे दर्द हो गई यारों
दर्द से दोस्ती हो गई यारों,
जिंदगी बे दर्द हो गई यारों,
क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा,
दूर तक रोशनी तो हो गई यारो।



दर्द ज़ाहिर कभी करने नहीं देता मुझको
दर्द ज़ाहिर कभी करने नहीं देता मुझको,
अश्क आंखों में भी भरने नहीं देता मुझको,
जानता हूँ, कि मैं अब टूट चुका हूँ लेकिन,
वो तो इक शख्स बिखरने नहीं देता मुझको।



दर्द को दर्द से न देखो दर्द को भी दर्द होता है
दर्द को दर्द से न देखो,
दर्द को भी दर्द होता है,
दर्द को ज़रूरत है दोस्त की,
आखिर दोस्त ही दर्द में हमदर्द होता है।



लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की
लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर,
मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की,
जब जहाँ जो मिला अपना लिया,
जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की।



यह भी देखिए:
एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया
एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया,
कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया,
जिसे ढूंढते रहे हम लोगों की भीड़ में,
मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया।



दर्द की दास्ता अभी बाकी है
दर्द की दास्ता अभी बाकी है,
मोहब्बत का इम्तेहान अभी बाकी है,
दिल करे तो फिर से वफ़ा करने आ जाना,
दिल ही तो टुटा है, जान अभी बाकी है।



बहुत कमज़ोर हो गए हो साहिब जो संभाल नहीं पाए दर्द
बहुत कमज़ोर हो गए हो साहिब,
जो संभाल नहीं पाए दर्द,
आखिर कर ही लिया मन हल्का,
गम कागज पर उतार कर।



जख्म जब मेरे सीने से बाहर आयेंगे
जख्म जब मेरे सीने से बाहर आयेंगे,
आंसू भी मोती बनकर बिखर जायेंगे,
ये न पूछों कि किसने कितना दर्द दिया है,
वर्ना कई अपनो के चेहरे उतर जायेंगे।



वो रात दर्द और सितम की रात होगी
वो रात दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,
उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,
कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी।



ए दिल मत कर इतनी मोहब्बत किसी से
ए दिल मत कर इतनी मोहब्बत किसी से,
इश्क में मिला दर्द तू सह नहीं पायेगा,
एक दिन टूटकर बिखर जायेगा अपनों के हाथों से,
किसने तोड़ा दिल ये किसी से कह भी नहीं पायेगा।



बस सह सकता हूं इस दर्द को
बस सह सकता हूं इस दर्द को,
कहने को कुछ बचा नहीं है,
उसके जाने के बाद ज़िन्दगी में,
अब और कुछ रहा नहीं है।



मोहब्बत का मेरे सफर आख़िरी है
मोहब्बत का मेरे सफर आख़िरी है,
ये कागज कलम ये गजल आख़िरी है,
मैं फिर ना मिलूँगा कहीं ढूंढ लेना,
तेरे दर्द का अब ये असर आख़िरी है।



आरज़ू नहीं के गम का तूफान टल जाये
आरज़ू नहीं के गम का तूफान टल जाये,
फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदल जाये,
भुलाना हो अगर मुझको तो एक अहसान करना,
दर्द इतना देना के मेरी जान निकल जाये।



रात सुनती रही हम सुनाते रहे
रात सुनती रही हम सुनाते रहे,
दर्द की दास्ताँ हम बताते रहे,
मिटा न सके यादें जिनकी दिल से,
नाम लिख लिख कर उनको मिटाते रहे।



प्यार मुहब्बत का सिला कुछ नहीं
प्यार मुहब्बत का सिला कुछ नहीं,
एक दर्द के सिवा मिला कुछ नहीं,
सारे अरमान जल कर ख़ाक हो गए,
लोग फिर भी कहते है जला कुछ भी नहीं।



यूँ तो हर एक दिल में दर्द नया होता है
यूँ तो हर एक दिल में दर्द नया होता है,
बस बयान करने का अंदाज़ जुदा होता है,
कुछ लोग आँखों से दर्द को बहा लेते है
और किसी की हँसी में भी दर्द छुपा होता है।



गुलशन की बहारों पे सर-ए-शाम लिखा है
गुलशन की बहारों पे सर-ए-शाम लिखा है,
फिर उस ने किताबों पे मेरा नाम लिखा है,
ये दर्द इसी तरह मेरी दुनिया में रहेगा,
कुछ सोच के उस ने मेरा अंजाम लिखा है।



दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया
दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हर मिला दिया।



अगर मैं लिखूं तो पूरी किताब लिख दूँ
अगर मैं लिखूं तो पूरी किताब लिख दूँ,
तेरे दिए हर दर्द का हिसाब लिख दूँ,
डरती हूँ कहीं तू बदनाम ना हो जाए,
वरना तेरे हर दर्द की कहानी मेरा हर ख्वाब लिख दूँ।



ज़िंदगी है बड़ी नादान इसलिए चुप हूँ
ज़िंदगी है बड़ी नादान इसलिए चुप हूँ,
दर्द ही दर्द सुबह शाम इसलिए चुप हूँ,
कहो तो कह दूं ज़माने से दास्तान अपनी,
उसमे आएगा तुम्हारा नाम इसलिए चुप हूँ।



तलाश है एक ऐसे शख्स की
तलाश है एक ऐसे शख्स की,
जो आँखों में उस वक़्त दर्द देख ले,
जब दुनिया हमसे कह रही हो,
क्या यार तुम हमेशा हसंते ही रहते हो।



तुमको छुपा रखा हे इन पलकों मे
तुमको छुपा रखा हे इन पलकों मे,
पर इनको ये बताना नहीं आया,
सोते हुए भीग जाती हे पलके मेरी,
पलकों को अब तक दर्द छुपाना नहीं आया।



रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है
रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है,
ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है,
हँसते है तो आँखों से निकल आते है आँसू,
ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।



वो तो अपने दर्द रो-रो कर सुनाते रहे
वो तो अपने दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,
हमारी तन्हाईयों से आँखें चुराते रहे,
और हमें बेवफ़ा का नाम मिला,
क्योंकि हम हर दर्द मुस्कुरा कर छिपाते रहे।



दर्द देने का अंदाज कुछ ऐसा है
दर्द देने का अंदाज कुछ ऐसा है,
दर्द दे कर कहते है अब हाल कैसा है,
ज़हर दे कर कहते है अब पीना होगा,
जब पी लिए तो कहते है अब जीना होगा।



तेरे प्यार के दर्द में रात भर नहीं सोते है
तेरे प्यार के दर्द में रात भर नहीं सोते है,
ये नैना तेरी याद में हर पल रोते है,
आंखे बंद भी नहीं कर सकता हूं मै अपनी,
बंद करके भी ये नैना तेरे ही ख्वाबों में खोते है।



इस बहते दर्द को मत रोको
इस बहते दर्द को मत रोको,
यह तो सज़ा है किसी के इंतज़ार की,
लोग इन्हे आँसू कहे या दीवानगी,
पर यह तो निशानी है किसी के प्यार की।



सजा कैसी मिली हमको तुझसे दिल लगाने की
सजा कैसी मिली हमको तुझसे दिल लगाने की,
रोना ही पड़ा जब कोशिश की मुस्कुराने की,
कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द भरी रातों का हमराज,
दर्द ही मिला है जो तूने कोशिश की आजमाने की।



दर्द बहुत हुआ दिल के टूट जाने से
दर्द बहुत हुआ दिल के टूट जाने से,
कुछ न मिला उनके लिए आँसू बहाने से,
वो जानते थे वजह मेरे दर्द की,
फिर भी बाज़ न आये मुझे आजमाने से।



ठोकर खाते है और मुस्कराते है
ठोकर खाते है और मुस्कराते है,
इस दिल को सब्र करना सिखाते है,
हम दर्द लेकर भी लोगों को याद करते है,
और लोग दर्द देकर भी लोगों को भूल जाते है।



तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं
तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं,
तुझको नहीं और अब खोना चाहता हूँ मैं,
अकेले इस तनहाई का दर्द बर्दाश्त नहीं होता,
तू एक बार आजा तुझसे लिपट कर रोना चाहता हूँ मैं।



न कर तू इतनी कोशिश मेरे दर्द को समझाने की
न कर तू इतनी कोशिश,
मेरे दर्द को समझाने की,
पहले इश्क कर फिर जख्म खा,
फिर लिख दावा मेरे दर्द की।



प्यार सभी को जीना सिखा देता है
प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों,
जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।



दर्द होता नही दुनियाँ को दिखाने के लिए
दर्द होता नही दुनियाँ को दिखाने के लिए,
हर कोई रोता नही आँसू बहाने के लिए,
रूठने का मज़ा तो तब आता है दोस्तों,
जब अपना हो कोई मनाने के लिए।



दर्द दे गए सितम भी दे गए
दर्द दे गए सितम भी दे गए,
ज़ख़्म के साथ वो मरहम भी दे गए,
दो लफ़्ज़ों से कर गए अपना मन हल्का,
और हमें कभी ना रोने की कसम दे गए।



मेरे इस दर्द की वजह भी वो है
मेरे इस दर्द की वजह भी वो है,
और मेरे दर्द की दवा भी तो वो है,
वो नमक ज़ख्मों पे लगाते है तो क्या,
मोहब्बत करने की वजह भी तो वो है।



दिल में है जो दर्द वो किसे बताएं
दिल में है जो दर्द वो किसे बताएं,
हँसते हुए ज़ख्म किसे दिखाएँ.
कहती है ये दुनिया हमे खुशनसीब,
मगर नसीब की दास्तान किसे सुनाएँ।



वो नाराज़ है हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं
वो नाराज़ है हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं,
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं,
दर्द की ज़ुबान होती तो बता देते शायद,
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते नहीं।



कभी दर्द है तो दवा नहीं जो दवा मिली तो शिफा नहीं
कभी दर्द है तो दवा नहीं,
जो दवा मिली तो शिफा नहीं,
वो जुल्म करते है इस तरह,
जैसे मेरा कोई खुदा नहीं।



हर ज़ख्म किसी ठोकर की मेहरबानी है
हर ज़ख्म किसी ठोकर की मेहरबानी है,
मेरी ज़िन्दगी की बस यही एक कहानी है,
मिटा देते सनम तेरे हर दर्द को सीने से,
पर ये दर्द ही तो तेरी आखिरी निशानी है।



तुम्हारे प्यार में हम बैठें है चोट खाए
तुम्हारे प्यार में हम बैठें है चोट खाए,
जिसका हिसाब न हो सके उतने दर्द पाये,
फिर भी तेरे प्यार की कसम खाके कहता हूँ,
हमारे लब पर तुम्हारे लिये सिर्फ दुआ आये।



उसने दर्द इतना दिया कि सहा ना गया
उसने दर्द इतना दिया कि सहा ना गया,
उसकी आदत सी थी इसलिए रहा न गया,
आज भी रोती हूं उसे दूर देख के,
लेकिन दर्द देने वाले से यह कहा ना गया।



हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे है हम
हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे है हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे है हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे है हम।



दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते
दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आँसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते।



अब ये भी नहीं ठीक के हर दर्द मिटा दें
अब ये भी नहीं ठीक के हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द तो कलेजे से लगाने के लिए है,
ये इल्म का सौदा, ये रिसाले, ये किताबें,
एक शख्स की यादों को भुलाने के लिए है।