Happy Navratri Attitude Love Sad Good Morning Good Night

Home Dard Bhari Shayari With Image in Hindi

Dard Bhari Shayari With Image in Hindi

मुझ को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही
मुझ को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए,
कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही।



मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया
मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया,
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया।



हम किसी शख्स से तब तक लड़ते है
हम किसी शख्स से तब तक लड़ते है,
जब तक उससे प्यार की उम्मीद होती है,
जिस दिन वो उम्मीद ख़तम हो जाती है,
उस दिन लड़ना भी खत्म हो जाता है।



यह भी देखिए:
कफ़न न डालो मेरे चेहरे पर
कफ़न न डालो मेरे चेहरे पर,
मुझे आदत है गम में मुस्कुराने की,
रूक जाओ आज की रात न दफनाओ,
मेरी मौत से बनी है मुहूर्त उसके आने की।



जो नजर से गुजर जाया करते है
जो नजर से गुजर जाया करते है,
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते है।
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते है।



तन्हा रहना तो सीख लिया हमने
तन्हा रहना तो सीख लिया हमने,
लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे,
तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल,
लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे।



उनका भी कभी हम दीदार करते है
उनका भी कभी हम दीदार करते है,
उनसे भी कभी हम प्यार करते है,
क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी,
पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते है।



यह भी देखिए:
रोने से किसी को पाया नहीं जाता
रोने से किसी को पाया नहीं जाता,
खोने से किसी को भुलाया नहीं जाता,
वक्त सबको मिलता है जिन्दगी बदलने के लिए,
पर जिन्दगी नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।



मत रख हमसे वफा की उम्मीद
मत रख हमसे वफा की उम्मीद,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।



हमारी दास्तां उसे कहां कबूल थी
हमारी दास्तां उसे कहां कबूल थी,
मेरी वफायें उसके लिये फिजूल थीं,
कोई आस नहीं लेकिन कोई इतना बतादो,
मैंने चाहा उसे क्या ये मेरी भूल थी।



सोते वक़्त भी चेहरा सामने नज़र आए
सोते वक़्त भी चेहरा सामने नज़र आए,
क्या मिल जायेगा मुझको प्यार मेरा,
बस यही सोचते सोचते रात गुज़र जाये।



प्यास दिल की बुझाने वो कभी आया भी नहीं
प्यास दिल की बुझाने वो कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं,
बेरुखी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उसने सताया भी नही।



मैं मर जाऊ तो मुझे जला देना
मैं मर जाऊ तो मुझे जला देना,
उससे पहले मेरा दिल को निकाल लेना,
मुझे परवाह नहीं इस दिल की जल जाने की,
मुझे परवाह है इस दिल में रहने वाली की।



जोड़कर रिश्ता मोहब्बत का किसी से
जोड़कर रिश्ता मोहब्बत का किसी से,
उसे तन्हा अकेले छोड़ा नहीं जाता,
कांच से होते है यह दिल के रिश्ते,
इन दिल के रिश्तों को यु ही तोड़ा नहीं जाता।



मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है
मुझे दर्द-ए-इश्क़ का मज़ा मालूम है,
दर्द-ए-दिल की इन्तहा मालूम है,
ज़िंदगी भर मुस्कुराने की दुआ मत देना,
मुझे पल भर मुस्कुराने की सज़ा मालूम है।



जान से ज्यादा प्यार उन्हें किया करते थे
जान से ज्यादा प्यार उन्हें किया करते थे,
याद उन्हें दिन रात किया करते थे,
अब उन राहों से गुज़रा नहीं जाता,
जहाँ बैठकर उनका इंतजार किया करते थे।



कभी रो के मुस्कुराए कभी मुस्कुरा के रोए
कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए,
जब भी तेरी याद आई, तुझे भुला के रोए,
एक तेरा ही नाम था, जिसे हजार बार लिखा,
जितना लिख के ख़ुश हुए, उस से ज्यादा मिटा के रोए।



न वो सपना देखो जो टूट जाये
न वो सपना देखो जो टूट जाये,
न वो हाथ थामो जो छूट जाये,
मत आने दो किसी को करीब इतना,
कि उसके दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये।



मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता है
मोहब्बत कि ज़ंज़ीर से डर लगता है,
कुछ अपनी तकलीफ से डर लगता है,
जो मुझे तुजसे जुदा करते है,
हाथ कि वो लकीरो से डर लगता है।



ज़रा सी ज़िंदगी है अरमान बहुत है
ज़रा सी ज़िंदगी है, अरमान बहुत है,
हमदर्द नहीं कोई, इंसान बहुत है,
दिल के दर्द सुनाएं तो किसको,
जो दिल के करीब है, वो अनजान बहुत है।



ये जान गँवा दी ये जुबां गँवा दी
ये जान गँवा दी, ये जुबां गँवा दी,
हमने तेरे इश्क में दो जहान गँवा दी,
सीने में पड़े थे दिल के हजार टुकड़े,
एक नज़र से तूने उनमें आग लगा दी।



आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा,
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा,
पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला,
मैं मोम हूँ उसने मुझे छू कर नहीं देखा।



आप आँखों से दूर दिल के करीब थे
आप आँखों से दूर दिल के करीब थे,
हम आपके और आप हमारे नसीब थे,
न हम मिल सके, न जुदा हुये,
रिश्ते हम दोनों के कितने अजीब थे।



पहले कभी ये यादें ये तनहाई थी
पहले कभी ये यादें ये तनहाई थी,
कभी दिल पे मदहोशी छायी ना थी,
जाने क्या असर कर गयीं उसकी बातें,
वरना इस तरह कभी याद किसी की आयी ना थी।



जिंदगी देने वाले मरता छोड़ गये
जिंदगी देने वाले मरता छोड़ गये,
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये,
जब पड़ी जरूरत हमें अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये।



क़दम क़दम पर बहारों ने साथ छोड़ दिया
क़दम क़दम पर बहारों ने साथ छोड़ दिया,
पड़ा जब वक़्त तो अपनों ने साथ छोड़ दिया,
क़सम खाई थी इन सितारों ने, साथ देने की,
सुबह होते ही सितारों ने भी साथ छोड़ दिया।



इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है
इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है,
बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है,
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो,
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है।



कुछ पल की यह मोहब्बत कैसी
कुछ पल की यह मोहब्बत कैसी,
हमसे जुदा होने की ये हसरत कैसी,
अभी तो वादे किये थे प्यार इश्क वफ़ा के,
तो फिर हमसे दूर होने की ये चाहत कैसी।



हर बात में आंसू बहाया नहीं करते
हर बात में आंसू बहाया नहीं करते,
दिल की बात हर किसी को बताया नहीं करते,
लोग मुट्ठी में नमक लेके घूमते है।
दिल के जख्म हर किसी को दिखाया नहीं करते।



गुजर रही है खामोशी से ये ज़िन्दगी
गुजर रही है खामोशी से ये ज़िन्दगी,
ना कोई खुशी है ना गम का शोर,
चाहे सौ साल ही क्यों ना इंतजार करना पड़े,
अब उसके सिवा इस दिल में ना आएगा कोई और।



दिल को ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं
दिल को ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई शिकवा नहीं,
और कितने अश्क बहाऊँ अब उस के लिए,
जिसको खुदा ने मेरी किस्मत में लिखा ही नहीं।



जब कहा था तुमने हमारे सपने सच होंगे
जब कहा था तुमने हमारे सपने सच होंगे,
तब यकीन था तुम पर रब से भी ज्यादा,
लेकिन अब विश्वास चूर चूर हो गया है मेरा
शायद तुमने अधूरा छोड़ दिया अपना वादा।



दर्द में इस दिल को तड़पते देखा
दर्द में इस दिल को तड़पते देखा,
अपने सामने हर रिश्ते को बिखरते देखा,
कितने प्यार से सजाये ख्वाबों की दुनिया,
उसी आँखों से अपने उजड़ते देखा।



छिपा कर दर्द अपनी हंसी में
छिपा कर दर्द अपनी हंसी में,
मै अंदर से खोखला हो रहा हूं,
क्या सुन सकता है तू मेरी आवाज़,
मै आज भी सिर्फ तेरे लिए रो रहा हूँ।



प्यार सभी को जीना सिखा देता है
प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।



आंखें तो प्यार में दिल की जुबान होती है
आंखें तो प्यार में दिल की जुबान होती है,
सच्ची चाहत तो सदा बे जुबान होती है,
प्यार में दर्द भी मिले तो मत घबराना,
सुना है दर्द से चाहत और जवान होती है।



कोई कहता इससे आग लगा दो
कोई कहता इससे आग लगा दो,
कोई कहता इससे ज़मी पे गार दो,
मगर ज़ालिम ज़माना ये नहीं कहता की,
इससे अपने प्यार से मिला दो।



हमने भी किसी से प्यार किया था
हमने भी किसी से प्यार किया था,
हाथो मे फूल लेकर इंतेज़ार किया था,
भूल उनकी नही भूल तो हमारी थी,
क्यों की उन्हो ने नही, हमने उनसे प्यार किया था।



रात की तन्हाई में उसको आवाज़ दिया करते है
रात की तन्हाई में उसको आवाज़ दिया करते है,
रात में सितारों से उनका ज़िक्र किया करते है,
वो आयें या ना आयें हमारे ख्वाबों में,
हम तो बस उन्ही का इंतज़ार किया करते है।



गम ने हसने न दिया ज़माने ने रोने न दिया
गम ने हसने न दिया, ज़माने ने रोने न दिया,
इस उलझन ने चैन से जीने न दिया,
थक के जब सितारों से पनाह ली,
नींद आई तो तेरी याद ने सोने न दिया।



यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम
यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम,
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम,
जिसको जितना याद करते है,
उसे भी उतना याद आयें हम।



साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टुटा करते
साथ नहीं रहने से रिश्ते नहीं टुटा करते,
वक़्त की धुंध से लम्हे नहीं टुटा करते,
लोग कहते हे मेरा सपना टूट गया,
टूटी नींद है सपने नहीं टुटा करते।



हमारे आंसू पोंछ कर वो मुस्कुराते है
हमारे आंसू पोंछ कर वो मुस्कुराते है,
उनकी इस अदा से वो दिल को चुराते है,
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,
इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते है।



पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम
पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम,
गलती हुई क्योकि इंशान थे हम,
आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है,
कभी उसी शक्स की जान थे हम।



ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है
ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है,
तू सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमें तो देखना है, तू बेवफ़ा कहाँ तक है।



हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने
हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने।



हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे
हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे,
वो भी पल पल हमें आजमाते रहे,
जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया,
हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे।



तरसते थे वो हमसे मिलने को कभी
तरसते थे वो हमसे मिलने को कभी,
आज वो मेरी परछाई से कतराते है,
हम भी वहीँ है दिल भी वहीँ है,
जाने कैसे यूँ लोग बदल जाते है।



आखरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लू
आखरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लू,
लौट के फिर तेरी महफ़िल में नही आऊंगा,
अपनी बर्बाद मोहब्बत का जनाज़ा लेकर,
तेरी दुनिया से बहुत दूर चला जाऊंगा।



वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते
वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते,
खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
मर गए पर खुली रखी आँखें,
इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते।